देश के 5 महत्वपूर्ण मसलों पर मोदी की चुप्पी

इन चार सालों के दौरान कई मौके ऐसे आए जब  देश को पीएम   बोलने का इंतजार था और वह नहीं बोले या घुमाफिरा कर बोले या इतनी देर से बोले कि उनकी प्रासंगिकता खत्म हो चुकी थी | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  मनमोहन सिंह को मौनी बाबा कहते थे | लेकिन सत्ता में आने पर वह भी कई अहम मामलों पर खुद ही मौन धारण कर गए |

आइये जानते है वह बड़े मोके जहां पर नरेंद्र मोदी की चुपी टूटने का सlरे देश को था इंतजार ……

न्यायपालिका में सरकार हस्तक्षेप 
सरकार पर न्यायपालिका को प्रभावित करने के आरोप 2015 से ही लगने लगे जब जजों की नियुक्ति के लिए सरकार की ओर से एनजेएसी का प्रस्ताव दिया गया | मामला जज लोडा की मौत से और उनके गलत प्रक्रिया से जुड़ा है |  विपक्ष इस मामले पर पीएम मोदी से बोलने की मांग करता रहा, लेकिन पीएम कुछ नहीं बोले |

सरकारी नौकरियों की प्रवेश परीक्षा में गड़बड़ी
सरकार के दौरान सामने आए व्यापम घोटाले में कम से कम 40 संदिग्ध मौतें हुईं | इसमें कई गवाहों और अफसरों  की मौत भी शामिल है यह मामला  राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय सुर्खियों में छाया रहा | पीएम इस मामले में चुप्पी ही साधे रहे

शाह और बीजेपी की संपत्ति

नोटबंदी के दौरान 2016-17 में ही बीजेपी की संपत्ति में 81 फीसदी का उछाल यानी 1,034 करोड़ की बढ़ोतरी हुई | इस दौरान कांग्रस की संपत्ति में सिर्फ 225 करोड़ का इजाफा हुआ इस मामले पर भी विपक्षी दलों ने पीएम मोदी से बोलने की मांग की, लेकिन वह मौन ही साधे रहे

विमानों को खरीदने में गड़बड़
फ्रांस से 36 राफेल विमानों की खरीद में विपक्ष पीएम से सफाई मांगता रहा. कांग्रेस ने इस मामले को चुनावों में भी उछाला, पर मोदी इस पर कुछ नहीं बोले एक तिहाई दाम पर विमान खरीदने का समझौता हुआ था. कांग्रेस ने नई डील में निजी कंपनियों को भी अनुचित फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया |

किसानों की मांग पर पीएम की चुप्पी 
किसान 40 हजार करोड़ के सूखा राहत फंड और कावेरी मैनेजमेंट बोर्ड की मांग को लेकर दिल्ली आए थे | सैकड़ों किसानों ने सांकेतिक तौर पर चूहे और घास खाकर, सड़क पर खाना खाकर और आत्महत्या किए किसानों के नरमुंडों की माला पहनकर दिल्ली में प्रदर्शन किया |  इस दौरान भी देश के कई हिस्मों में किसानों ने आत्महत्या की. इस मामले पर भी पीएम मोदी चुप्पी साधे रहे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *